ad

Breaking News

sad shayari love in hindi

 sad shayari love in hindi

              💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕
1. बचा सकते हैं वह कैसे कोई दिल टूट जाने से 
हकीकत को भी ताबीर करते हैं फसाने से
 बलाई दूर होती है किसी के पास आने से 
हजारों रोग जाते हैं गले उसको लगाने से
                   💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓

 sad shayari love in hindi

❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤           
2. समझता नहीं शायद या फिर अनजान बनता है 
बदन पर क्या गुजरती है नजर के ताजी आने से
 मोहब्बत क्या कहे किस-किस तरह नज़दीक लाती है
 जिसे देखो उसे फुर्सत नहीं आंसू बहाने से
    ❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤       

     
3. लड़खड़ाए जो नजर लग जिसे पा से पहले 
हो गई एक खता और खता से पहले 
वर्क से पहले तड़प दिल में हुई है पैदा
 आंख ने भीगना सीखा है घटा से पहले
 बुझ न जाए कहीं यह आस का माध्य्म सा दिया
 इसको महफूज़ करो तेज हवा से पहले
  ❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤
 
4. बदलते मौसम में एक मौसम प्यार का मौसम
कभी ये जीत का मौसम कभी हार का मौसम
ये मौसम जब भी आय जान लो ये फिर न आयगा
जो बिछड़ा था कभी उस यार के दीदार का मौसम
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤


5. मोहब्बत से रिहा होना जरूरी हो गया है।
मेरा तुजसे जुदा होना जरूरी हो गया है।
वफ़ा के तजर्बे करते हुए तो उम्र गुजरी
जरा सा बेवफा होना जरूरी हो गया है।
मेरी आवाज तन्हाई मैं मरती जा रही हैं।
किसी का साथ होना जरूरी हो है।
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤


 sad shayari love in hindi

❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤
6. वो फूल है।जिसके साथ कांटे भी होते हैं
 और अंदर खुसबू भी।
वो सफ़र है जिसमें ऊंचे नीचे रास्तो का
 दौर चलता ही रहता है।
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

 sad shayari love in hindi


7.  वही पत्थर सजा रखे हुए हैं जहां तक आईने रखे हुए हैं
 वफा की राह में तुम लौट आओ अभी कच्चे घड़े रखे हुए हैं 
हमारी जिंदगी गुजरेगी कैसे कि तुमने फासले रखे हुए हैं
 निशा मिलता नहीं है मंजिलों का यह कैसे दायरे रखे हुए हैं
 कभी फुर्सत मिले तो लौट आना सजाकर रास्ते रखे हुए हैं
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

8.  मुझसे मत पूछिए खता क्या है
 आप कहिए कि फैसला क्या है 
मेरे सारे चिराग गोल करके अब हवाओं का मामला क्या है 
मुद्दत से मैं भी नहीं रोया फिर मेरी आंख से गिरा क्या है
 सच की ताकीद है बजा लेकिन तेरे चेहरे पर यह लिखा क्या है
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤


9. खुलेगा फिर तेरा किरदार दरिया गुजरा शहर से
 बस एक बार दरिया इसकी तह में कितने ही खजाने बना है
 जिनका पहरेदार दरिया बना ले तू बांध जितने रास्तों में गिरा देगी हर एक दीवार दरिया
 भवर पर बैठकर फिर मैंने अरशद किया है जिंदगी का पार दरिया
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

10.  किनारा था लेकिन किनारों से कम कोई रोशनी थी
 सितारों से कम बुलाओ ना आवाज देकर उसे कि आता है 
अब पुकारे से कम अभी तक उसे ढूंढती है नजर कोई मंजर था 
ऐसा नजारे से कम कोई बात खुलकर नहीं कह सके इशारा ही था और इशारे से कम
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

11.  मैं उनकी आंखों का तारा हो गया हूं
 तू खुद को भी मैं प्यारा हो गया हूं
 मोहब्बत ने जिन्हें बेघर किया है मैं उन सब का सहारा हो गया हूं 
मुझे सब गौर से देखते हैं अब की कोई नजारा हो गया हूं
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

 12. नए रंगों की चाहत तितलियों को मार जाती है
 कभी ऐसा भी होता है मोहब्बत हार जाती है
 तन्हा तन्हा जमाने फतह करने जब निकलता है 
तो सब सूरज के चरणों पर दिए सब वार जाती है 
हवा को ज़िद क्या आसिफ इन रोशन चिरागो से क्यों इन को बुझाने के लिए हर बार आ जाती है
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

 sad shayari love in hindi


 sad shayari love in hindi

❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

13.  तुम्हारा ख्वाब कहां तक हमारे साथ रहे
 कोई शराब कहां तक हमारे साथ है 
चड़ी जो धूप बिखरने लगा तो हम समझे 
कोई गुलाब कहां तक हमारे साथ रहे 
यह जिंदगी शायद मगर शबाब कहां तक हमारे साथ रहे
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

14.  मुझे तो हर नजारा एक सा है
 भंवर हो या किनारा एक सा है
 किताबी जिंदगी सबकी अलग है
 बजा हीर हर्ष मारा एक सा है 
मोहब्बत उस पर बारे गिरा है 
कि दोनों का सितारा एक सा है
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

15.  इस आस पर जा रहा हूं की मिलेगी राहत आखिर में
 रंग लाएगी उम्र भर की रिया जाते कभी तो मिलेगा 
मुझको भी दिल का उजाला कभी तो खत्म होंगे काली सिया राते मेरी हर बात की करता है 
काट वो कुछ अच्छी नहीं उसकी यह आदत है
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤


16.  कभी किसी से प्यार करके देखिए अपने दिल को सरसार करके देखिए
 डरना प्यार में तो बुजदिल ओ का काम है 
आप ज़ुर्रत से इजहार करके देखए कितनी देर से समझ रहा है 
आपको आखिर महबूब से बात तो यार करके देखिए
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

17.  मोहब्बत की आसेरी से रिहाई मांगते रहना 
बहुत आसान नहीं होता जुदाई मांगते रहना
 जरा सा इश्क कर लेना जरा सी आंख भर लेना
 एवज़ इसके मगर सारी खुदाई मांग के रहना






No comments