ad

Breaking News

Aap bhi ban sakte hai udyoogpti [all step]


आप भी बन सकते हैं। उधोगपति



मुरली ने आलू कि फसल के लिए उन्नतिशील बीजों का प्रयोग किया,  फसल कई गुना अधिक हुई, पर बाजार मे मांग न होने से बहुत सारा आलू खेत में ही सड़ गया। अगले वर्ष मुरली ने  अपनी बचत से घर में आलू के पापड़ बनाने का छोटा सा वयवसाय प्रारंभ किया जिसमें गांव की 25-30  महिलाएं अपने खाली समय में काम करती है। शहर में आलू के पापड़ कि अच्छी माँग है। अब वह आलू के चिप्स व पापड़ बनाने की मशीन लगाने के  लिए किसी वित्तिय संस्था से लोन लेने की सोच रहा है।


आप भी बन सकते हैं। उधोगपति









किसी भी देश, प्रदेश, ज़िले, गांव की समिर्द्ध मैं उधोगों का सबसे महत्वपूर्ण स्थान। उद्यमी, वस्तुओं का उत्पादन करके सिर्फ खुद को ही नहीं बल्कि अनेक लोगों को रोजगार देकर उनके परिवार का भरण पोषण करता है। किसी भी राष्ट्र की आर्थिक स्थिति उस राष्ट्र में उद्योग धंदो कि  स्तिथि से मापी जाती है। यहां ये कहना अतिशयोक्ति न होगा कि आने वाले समय में उद्यमी ही राष्ट्र के सुववलंबन और उन्नति के असली निर्माता होंगे ।

यदि आपने निश्चय कर लिया है कि हमें एक उद्यमी बनना है । तो आपके दिमाग में कुछ ऐसे सवाल उठेंगे। 


1, मुझे कोन  सा वयवसाय ,रोज़गार सुरु करना है।

2, आस पास के लोगों की किस प्रकार की आवश्यकता है। जिसे अभी कोई पूरा नहीं कर पा रहा है।


3,  उनके लिए किस प्रकार की सेवाएं और सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकती।है।

4, धंदा सुरु करने के लिए किस  प्रकार के कच्चे माल, मशीनों एवं उपकरणों की आवश्यकता है। ये कहा और कैसे सबसे उचित दामो से प्राप्त होगी ।

5, वितीय सहायता सरकारी बैंकों , वित्तिय निगम , खादी ग्रामोद्योग विभाग आदि । किससे प्राप्त करनी है ।

6,  उधोग लगाने के लिए स्थान , सैड एवं भवन की विव्वस्था कहा करे।

7,  उत्पादित वस्तुओं ,सेवाओं का बाज़ार कहा और कैसे बढ़ाना है।

इनमें से कुछ सवालों का उत्तर ।



आपको अपने आस पास के वातावरण एवम लोगों को समझने से मिलेगा । और कुछ का उत्तर आपको जिला उधोग केंद्र से । जिला उधोग केंद्र आपको उद्योग चयन विभिन्न परियोजनाओं की जानकारी रिपोर्ट बनाने , मशीनो , कच्चे माल के विक्रेताओ के पते लोन स्त्रोतों की जानकारी, तकनीक परामर्श आदि में मदद करने के लिए स्थापित किए गये है ।

अब आप सोचे कि आपको किस प्रकार के उधोग धनदो मैं रुचि है। आपके शहर , गांव,  मैं धड़ादंड़ चलते कारखानों और फैक्टरी हो किया ये आपका भी सपना है।

No comments